भोजपुरी सिनेमा के अच्छे दिन,सुदूर क्षेत्रों में होगी गहरी पैठ।  

भोजपुरी सिनेमा के अच्छे दिन,सुदूर क्षेत्रों में होगी गहरी पैठ। अब टाटा स्काई (चैनल नं 1115) और डेन नेटवर्क (चैनल नं 827) पर उपलव्ध

दुनिया भर के 25 करोड़ भोजपुरी दर्शकों के बीच ”भोजपुरी सिनेमा ” एक मात्र ऐसी चैनल है जो प्रत्येक सप्ताह 42 नए फिल्मो का प्रसारण करती है। ऐसा अनुमान है की 50 से भी अधिक फिल्मो के संग्रहण के साथ ”भोजपुरी सिनेमा” दुनिया की सबसे बड़ी भोजपुरी फिल्म पुस्तकालय है।
दर्शकों को और आकर्षित करने के प्रयास में,भोजपुरी फिल्मो के सार्वजनिक प्रसारक ”भोजपुरी सिनेमा”,चैनल को आसानी से देश भर के दर्शकों के लिए उपलब्ध बना रही है।  भोजपुरी सिनेमा अब देश के सुदूर क्षेत्रों में अपनी पैठ ज़माने के लिए अब अब टाटा स्काई (चैनल नं 1115) और डेन नेटवर्क (चैनल नं 827) पर उपलव्ध है।   इस कदम से ”भोजपुरी सिनेमा ” देश के गैर भोजपुरी भाषी क्षेत्रों के दर्शकों के लिए भी उपलब्ध होगा।  भोजपुरी दर्शकों हेतु संपूर्ण मनोरंजन’ के वादे के साथ लोगों को यह चैनल अपने पुराने छब-ढब में ही दिखेगा।

manish-ji-dangal3-1600x1200 manish-ji-dangal-2-1600x1200
साथ ही ”भोजपुरी सिनेमा” के टाटा स्काई और डेन नेटवर्क के इस संगठन से ऐसा अनुमान है की भोजपुरी सिनेमा के दर्शकों में अप्रत्याशित वृद्धि होगी। विगत कई  वर्षों से ”भोजपुरी सिनेमा” लगातार भोजपुरी फिल्मो का प्रसारण कर रही है और अब  स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर के दर्शकों में यह बढ़ोतरी निश्चित ही भोजपुरी फिल्म  इंडस्ट्री का आधार भी मजबूत करेगी। ”भोजपुरी सिनेमा” डीटीएच प्लेटफॉर्म टाटा स्काई, एयरटेल, डीडी फ्री डिश, क्षेत्र के सभी केबल ऑपरेटरों के साथ डिश टीवी के रूप में उपलब्ध है।
उक्त घोषणा एंटरटेन टेलीविजन प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और प्रबंध निदेशक श्री मनीष सिंघल ने की है।  इस विषय में श्री सिंघल ने आगे बताया की ”‘हम चाहते हैं कि भोजपुरी सिनेमा लोगों का पसंदीदा चैनल बने,इसीलिए देश के बड़े डी.टी.एच प्लेटफॉर्मों के संगठन से इसका विस्तारीकरण किया जा रहा है। अपने पुराने कलेवर और तेवर के साथ भोजपुरी सिनेमा चैनल देशभर में दर्शकों के लिए प्रसारण को तैयार है।
हमें विश्वास है कि चैनल पर कार्यक्रमो का प्रसारण हमारे नए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करेगी और हमारे पहुंच और स्थिति में बढ़ोतरी भी होगी।  भोजपुरी सिनेमा का यह  विस्तारीकरण भोजपुरी फिल्मो का आधार मजबूत करने में काफी सफल साबित होगी। ——-SARVESH KASHYAPH

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Comments are closed.