७२००० रुपये देनेवालो ७२००० कहाँ से दोगे

  किसान हमारे भारतीय नागरिक है बाकि की जनसख्याँ भी भारतीय नागरिक है जिनसे वसूले गए टैक्स से हमारा देश चलता है,राहुल गाँधी का बोलना है की देश के पास इतना पैसा है की २०% गबीब लोगो को ७२००० रुपये दिए जा सकते है, मेरा इनसे ये कहना है,देश के पास नागरिको से कर के रूप में इकठ्ठा किया गया पैसा वह इस तरह कैसे बात सकते है,अगर देना ही है तो अपने बैंक बैलेन्स से निकल कर दे ,काम पड़े तो अपने करोपति पार्टी के मेंबर से वसूले,फिर यह पैसा गरीबो में या जरुरत मांदो को दे !

                देश तरह तरह की आपदाये झेल रहा है, मोदी जी के नर्त्तत्व में चीन और पाकिस्तान उचित जवाब दे रहा है,आज हमारा देश सम्पनता की तरफ तेजी से कदम बढा  रहा है, मोदी जी के अथक परिश्रम से विभिन्न देशो का दौरा और उनसे समझौते बनाके अच्छे रिश्ते बनाये,परिणाम अमेरिका, रूस ,ब्रिटिश ,फ़्रांस आदि सभी देश हमारे साथ साथ चलने को तैयार है !

                 मोदी जी की विदेश कूट निति ने पाकिस्तान को युद्ध किये बिना ही हरा दिया है,वह कटोरा फैलाकर अंन्य देशो से सहायता की अपील कर करा है,लेकिन उसे कोई सहयोग नहीं कर रहा है,हमारे देश ने बहुत तेजी से विकास किया है,विदेशो का कर्ज बहुत काम किया है,आज दुनिया के विकसशील और विकसित हमसे सम्बंध बनाने के लिए तत्पर है यही कारण  है की हमारा देश व्यापर में भी बहुत आगे निकल गया है ,जिहाजा हमारे देश की गिनती सम्पन देशो में होने लगी है अगर देश की राजस्वक (खजाने ) को इसी तरह से खैरात में बाटा गया तो हमारी संपत्ति कब तक बरकरार रहेगी ?मेरे देश के नेताओ से निवेदन है,की वे देश के खजाने को लुटाने के बजाये अपने संग्रह किये हुए सम्पति से देश के किसानो ,गरीबो का कर्ज के रूप में सहायता करे, इस तरह की खैरात लोगो को निकम्मा बना देती है,और जिस देश के लोग निकम्मे हो जाते है,उस देश को सचमुच गरीब होने में कई समय नहीं लगता आज तो हमारे यह देश के कुछ %नागरिक गरीब है,इस तरह का कर्ज माफ़ हमारे देश को ही गरब बना देगा !

                      कृपया जनता को अपने सत्ता सुख के लिए देश और जनता को बर्बाद न करे अगर दान देना ही है, तो अपने जेब टटोले और उनसे लोगो की सहायता करे इससे हमारा देश मजबूत होगा गरीब नागरिक गरीबी से बहार आएंगे और आप लोगो ने जो करोडो रुपये एकट्ठा कर रखा है, उसका वजन भी काम होगा दान देने के बाद बाकी धन से फिर अपने आप को मजबूत करो कियोकि दान देने से कभी पैसा ख़तम नहीं होता !    

महेश प्रभु ओझा     

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *